राज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने किये सम्मक्का-सारलम्मा के दर्शन, स्वागत के लिए नहीं आये अधिकरी

हैदराबाद : तेलंगाना का कुंभ मेला सम्मक्का-सारलम्मा जातरा भव्य रूप से जारी है। मेडारम में दर्शन के लिए शनिवार को भक्त और गणमान्य व्यक्तियों का हुजूम उमड़ पड़ा। इसी क्रम में तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने सम्मक्का-सारलम्मा के दर्शन किये और सोना अर्पित किया।

राज्यपाल ने सम्मक्का-सारलम्मा जातरा की लोगों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि मेडारम जातरा देश का सबसे बड़ा आदिवासी मेला है। वह इस जातरा में आकर बहुत खुश हैं। उन्होंने सम्मक्का सारलम्मा से कोरोना का नाश करने और सभी लोगों को स्वस्थ और खुश रखने की प्रार्थना की। राज्यपाल के दौरे के चलते प्रशासन ने सारे इंतजाम किये।

इसी क्रम में राज्यपाल के दौरे के समय स्थानीय विधायक, मंत्री, जिलाधीश और पुलिस अधीक्षक अनुपस्थित रहे हैं। इस घटना की आलोचना की जा रही है। विधायक सीतकक्मा ने स्थानीय विधायक मंत्री, जिलाधीश और पुलिस अधीक्षक अनुपस्थित होने पर नाराजगी जताई हैं। उन्होंने कहा कि राज्यपाल एक गरिमा पद है। उस पद का सम्मान करना सभी का कर्तव्य है। मगर समझ में नहीं आया कि यह सब अचानक कहां और क्यों चले गये हैं। यह रवैया निंदनीय है।

दूसरी ओर चार दिन तक जारी मेडारम जतारा का आज समापन हो रहा है। वन देवता समक्का, सारलम्मा, गोविंदराजू और पगिडिद्रिराजू आज शाम जंगल में वापस चले जाएंगे। सम्मक्का चिलुकलागुट्टा, सारलम्मा कन्नेपल्ली, गोविंदराजू कोंडाई और पगिडिद्दिराजू पूनुगोंड्ला ले जाया जाएगा। मंत्री और सरकारी तंत्र शुरू से ही मेडारम में रातदिन कार्य किया। बिना किसी रुकावट के मेडारम जातरा को सफल करने के महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Recent Posts

Recent Comments

Archives

Categories

Meta

'तेलंगाना समाचार' में आपके विज्ञापन के लिए संपर्क करें

X