कांग्रेस पार्टी की सदस्यता अभियान की बैठक में रेवंत रेड्डी ने सुनाई खरी-खोटी बातें, जानने के लिए पढ़ें खबर

हैदराबाद: टीपीसीसी अध्यक्ष रेवंत रेड्डी ने कहा है कि कड़ी मेहनत करने वालों को ही पार्टी में पद मिलेंगे, वर्ना कुछ नहीं। सोमवार को सिकंदराबाद में पार्टी सदस्यता अभियान को लेकर बैठक हुई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि देश में सबसे अधिक 4 लाख 30 हजार पार्टी सदस्यों वाला नलगोंडा संसदीय निर्वाचन क्षेत्र है, जबकि सबसे कम 47,000 पार्टी सदस्यों के साथ सिकंदराबाद संसदीय क्षेत्र में है।

उन्होंने आगे कहा कि इन दोनों निर्वाचन क्षेत्र के प्रभारी गीता रेड्डी है। पार्टी की सदस्यता में पेद्दापल्ली संसदीय निर्वाचन क्षेत्र दूसरे स्थान पर है। 34 लाख 69 हजार 53 सदस्यता सत्यापित हैं और 3 लाख 50 हजार गैर सत्यापित सदस्यताएं हैं। कांग्रेस पार्टी में कुल 38 लाख 19 हजार 53 सदस्य पंजीकृत हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सिकंदराबाद में राष्ट्रीय स्तर के नेता मौजूद हैं। बूथ स्तर पर 100 सदस्यता नहीं बनाया गया तो सिकंदराबाद में सभी के पद रद्द कर दिये जाएंगे। मेहनत करने वालों को प्रमोशन दिया जाएगा। कितना भी बड़ा नेता क्यों न हो बूथ स्तर पर 100 सदस्य नहीं करते तो पार्टी के लिए उपयोग नहीं है। कांग्रेस सत्ता में आई तो सभी योजनाएं पार्टी के कार्यकर्ताओं को ही दी जाएगी।

रेवंत ने याद दिलाया कि केसीआर ने सवाल किया था कि आंध्रा प्रदेश के ब्राह्मण ही ब्राह्मण हैं, क्या वे तेलंगाना ब्राह्मण नहीं होते हैं? अब केसीआर वहां के ब्राह्मणों को ही प्रोत्साहित कर रहे हैं। चिन्ना जियार स्वामी कहां के निवासी है? जगन मोहन रेड्डी पानी और निधियां कृष्णा रेड्डी ले जा रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हम तेलंगाना के लिए लड़े हैं। पद मात्र आंध्रा वालों को आये हैं। नमस्ते तेलंगाना और टी न्यूज में काम करने वालों को हटाकर आंध्रा वालों को बिठा जा रहा है।

उन्होंने यह भी कहा कि सीएम केसीआर ने बिहार से प्रशांत किशोर को लेकर आये हैं। तेलंगाना आंदोलन के दौरान केसीआर ने लोगों को उकसाया कि आंध्र प्रदेश के लोग तेलंगाना में राज कर रहे हैं। तेलंगाना में महत्वपूर्ण पदों पर आसीन सोमेश कुमार, अंजनी कुमार, अरविंद कुमार और संदीप कुमार बिहार से हैं। उनके पास पांच-छह विभाग हैं। केसीआर भी बिहार से हैं। पिछले एक इंटरव्यू में केसीआर खुद इस बात का खुलासा किया था कि उनके पूर्वज बिहारी थे। केसीआर अब बिहारियों के साथ मिलकर तेलंगाना को लूटने की साजिश कर रहे हैं।

रेवंत ने कहा कि केसीआर की गुलामगिरी करना पसंद नहीं करने वाले ईमानदार हमारे पालामुरु के बेटे आरएस प्रवीण कुमार आईपीएस सेवा से इस्तीफा दे दिया है। आईएएस मुरली भी हिम्मत से बाहर आ गये हैं। रेवंत ने आह्वान किया कि तेलंगाना के आईएएस और आईपीएस अधिकारी भी इस्तीफा देकर बाहर आ जाये। उन्होंने डीजीपी महेंद्र रेड्डी और श्रीधर रेड्डी से भी इस्तीफा देकर बाहर आने का सुझाव दिया। रेवंत रेड्डी ने सवाल किया क्या बिहार और मध्य प्रदेश के अधिकारी ही केसीआर को याद आते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Recent Comments

Archives

Categories

Meta

'तेलंगाना समाचार' में आपके विज्ञापन के लिए संपर्क करें

X