क्राइम अपडेट: कार की डिक्की में मिला बीजेपी नेता का जला हुआ शव, अनेक संदेह

हैदराबाद : तेलंगाना के मेदक जिले में मंगलवार को एक स्थानीय भाजपा नेता को जिंदा जला दिया गया। पुलिस के मुताबिक, कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने भाजपा नेता को कार की डिक्की में बंद कर आग लगा दी। इसके कारण उसकी दर्दनाक मौत हो गई।

मेदक जिले के वेल्दुर्ती क्षेत्र (यशवंतरोपेट राजस्व क्षेत्र के भीतर) में मंगलपर्ती के पास निर्मम हत्या हुई। होंडा सिटी कार की डिक्की में मिली लाश से हड़कंप मच गया है। क्या किसी ने हत्या के बाद शव को डिकी में डालकर कार को जला दिया? या फिर उसे कार में जिंदा जलाया गया है। पुलिस का मानना है कि मंगलपर्ती के इलाके में उसकी कहीं हत्या की गई और उसी की कार के साथ आग लगा दी गई। 

पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। मेदक की पुलिस अधीक्षक चंदना दीप्ति ने कहा, “कुछ अज्ञात लोगों ने भाजपा नेता को उनकी कार में बंद कर आग लगा। हमें उनका जला हुआ शरीर उनकी कार की डिक्की में मिला।”

उन्होंने बताया कि कार पर लगे रजिस्ट्रेशन नंबर के आधार पर मृतक की पहचान मेदक शहर के भाजपा नेता धर्माकर श्रीनिवास (45) उर्फ ​​कटिके श्रीनु के रूप में हुई है। हत्या का मामला सोमवार की रात करीब साढ़े दस बजे बताया जा रहा है, जो मंगलवार की सुबह सामने आया। मेदक एएसपी कृष्णमूर्ति, तुप्रान डीएसपी किरण कुमार और पुलिस टीम ने मौके पर जानकारी जुटाई। मामले की जांच जारी है। 

ऑटो चालक को सेलफोन में वीडियो बनाया

मंगलपर्ती गांव के एक ऑटो चालक ने सोमवार की रात करीब साढ़े दस बजे सबसे पहले गांव के बाहरी इलाके में वेल्दुर्ती-नरसापुर मुख्य मार्ग पर जलती हुई एक कार को देखा। नरसापुर से वह अपनी ऑटो में एक दोस्त के साथ घर जा रहा था। उसने अपने सेलफोन में जलती हुई कार का वीडियो बनाया। उसी रात को गांव के एक ग्रुप में जलती हुई कार को पोस्ट किया।

यह देख स्थानीय सरपंच रामकृष्ण राव ने पुलिस को खबर दी। वेल्दर्ती के एसआई महेंदर अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। कार की डिक्की में श्रीनिवास का जला हुआ शव बरामद किया। इसके चलते उन्होंने उनके घर जाकर कुछ जानकारी जुटाई। पुलिस ने 9 अगस्त को श्रीनिवास घर से कितने बजे निकला? सेलफोन कब तक चालू था? इसके अलावा श्रीनिवास की डायरी और सीसीटीवी फुटे को बरामद किया है।

लगाये गये दांतों के आधार पर पहचान और पत्नी का बयान

शव पूरी तरह से जल चुका था और कोई निशान दिखाई नहीं दे रहे थे। इसलिए घटनास्थल पर मौजूद मेडिकल स्टाफ द्वारा पोस्टमार्टम किया गया। डॉक्टरों ने पुष्टि की कि श्रीनिवास को तीन लगाये दांत हैं। हालांकि, श्रीनिवास की पत्नी हिंदवी ने शुरू में कहा था कि उनके पति के दो लगाये हुए दांत हैं। यह शव उसके पति का नहीं है। मगर कुछ समय बाद उसने अपना बयान बदल दिया। उसने पुलिस को बताया कि शव उसके पति का ही है और विवाहेतर संबंधों को लेकर उनके बीच अक्सर झगड़े होते रहते थे। उसने लिखित में शिकायत की कि उसके पति का दो महिलाओं के साथ संबंध थे और उनके ही किसी परिवार के सदस्यों ने हत्या की है। रिएल इस्टेट कारोबार भी हत्या का कारण हो सकता है। साथ ही उसने मारेपल्ली गांव की एक महिला पर शक जताया है। श्रीनिवास के तीन बच्चे हैं।

चार टीमों का गठन

तुप्रान डीएसपी किरण कुमार ने बताया कि मंगलर्ती हत्याकांड मामले को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हत्यारों को पकड़ने के लिए चार टीमों का गठन किया गया है। मृतक की पत्नी द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच की जा रही है। उन्होंने संदेह व्यक्त किया कि श्रीनिवास को कहीं पर हत्या करने के बाद मंगलपर्ती के पास में उनकी कार में शव को लाया गया और आग लगा दी गई। सोमवार की सुबह करीब पांच बजे उसका मोबाइल फोन स्विच ऑफ हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'तेलंगाना समाचार' में आपके विज्ञापन के लिए संपर्क करें

X