कोरोना काल में खलनायक की भूमिका निभाने वाले सोनू सूद कहां और टॉलीवुड हीरों की कैसी हैं भूमिका?

हैदराबाद : इस समय पूरा देश कोरोना से जूझ रहा है। बॉलीवुड, हॉलीवुड और तमिल फिल्मी हीरो मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं। अभिनेता सोनू सूद तो रियल हीरो की भूमिका नहीं निभा रहे है। सब की मदद करते हुए सोनू रियल हीरो बन गये हैं। दर्शकों की बदौलत टॉलीवुड के कुछ हीरों को अच्छी प्रसिद्धी मिली हैं। मगर अब तक कोई भी हीरो मदद करने के लिए आगे नहीं आये हैं।

तेलंगाना में कोरोना का तांडव जारी है। कोविड की वजह से लोगों की मौत का सिलसिला जारी है। कई परिवार बेसहारा हो गये हैं। अस्पतालों मे ऑक्सीजन की कमी और बिस्तर नहीं मिलने के कारण रोगियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लाखों रुपये खर्च किये जाने पर भी रोगियों की जान नहीं बच रही है। केंद्र और राज्य सरकार मात्र मुख दर्शक बनकर देख रही है।

पूछने वालों को सोनू सूद तत्काल सहायता

ऐसे समय में बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने कोरोना की पहली लहर के दौरान जिस प्रकार से लोगों की सेवा की थी, उसी तरह दूसरी लहर में भी मुश्किल में फंसे लोगों के लिए मदद करने सबसे आगे आ रहे हैं। ऑक्सीजन, बिस्तर, प्लाज्मा और अन्य प्रकार की मदद कर रहे है। देश के किसी भाग में कोरोना पीड़ित है तो उन्हें वित्तीय और चिकित्सा सहायता प्रदान कर रहे हैं। पूछने वालों को सोनू सूद तत्काल सहायता कर रहे हैं।

टॉलीवुड हीरो की ओर से मदद नहीं

सोनू सूद के साथ बॉलीवुड, हॉलीवुड और कॉलीवुड के कुछ और हीरो भी मदद कर रहे हैं। लेकिन टॉलीवुड हीरो की ओर से किसी भी प्रकार की मदद नहीं मिल रही है। पहली लहर के दौरान मदद करने वाले तेलुगु हीरो, दूसरी लहर के समय खामोश हैं। वास्तव में दूसरी लहर में कोविड का प्रकोप ज्यादा है।

सहायता के गुण नहीं

ऐसे समय में तेलुगु हीरों की ओर से किसी प्रकार की प्रतिक्रिया नहीं मिल रही हैं। उनके इस प्रकार मौन रहने से लगता है कि टॉलीवुड के हीरों में सहायता करने के गुण नहीं है। सच में देखा जाये तो दर्शकों की बदौलत ही इतने बड़े हीरो बने हैं। दर्शकों के कारण ये हीरो लाखो-करोड़ों जमा कर पाये हैं।

कीचड़ में उतरकर लोगों को खाना और कपड़े दिये

पहले से ही अन्य राज्यों के हीरों की तुलना में टॉलीवुड के हीरों में सामने आकर मदद किये जाने के कम उदाहरण है। तमिलनाडु और केरल के हीरो लोगों की सहायता के लिए अनेक बार सड़कों पर आकर धरना और आंदोलन किये हैं। बाढ़ और आपदा के समय तो उन राज्यों के हीरो कीचड़ में उतरकर लोगों को खाना और कपड़े दिये हैं। मगर ऐसे उदाहरण तेलुगु हीरो में नहीं है।

आंदोलन और धरना करने वाला एक भी तेलुगु हीरो नहीं

यदि टॉलीवुड के लोग सहायता की भी है तो केवल घोषणा करके घरों में ही रह गये हैं। उनकी ओर से की गई सहायता लोगों को ठीक प्रकार से मिल रही है या नहीं उस पर भी ध्यान नहीं देते हैं। लोगों की समस्याओं को लेकर सड़क पर आकर आंदोलन और धरना करने वाला एक भी तेलुगु हीरो नहीं है।

सोनू सूद ही रियल हीरो

इस संदर्भ में सिल्वर स्क्रीन पर खलनायक की भूमिका निभाने वाले सोनू सूद लोगों की हर संभव मदद करते हुए रियल हीरो बन गए हैं। मगर टॉलीवुड हीरो मात्र रील हीरो बनकर रह गये है।

तेलुगु हीरों को सोचना चाहिए

अब भी तेलुगु हीरों को सोचना चाहिए कि कोरोना इस आपदा के समय में आगे आये और जरूरतमंदों को मदद करें। घरों तक ही सीमित होना छोड़कर कोरोना पीड़ितों को सहायता करने के लिए आगे आये। आपसे जितना हो उतनी मदद करते हुए लोगों की जान बचाये। कोई भी फिल्म दर्शकों के बिना नहीं चलती। बिना दर्शकों से को ई भी हीरो नहीं बन पाता है। अब भी तेलुगु हीरों को इस बात को पहचानना चाहिए। लोगों को जान बचाने के लिए आगे आना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'तेलंगाना समाचार' में आपके विज्ञापन के लिए संपर्क करें

X