लाखों की नौकरी छोड़कर लौट आया इंजीनियर, 20 गायों के साथ कर रहा है 44 करोड़ का कारोबार, वाह क्या बात है गुरू

हैदराबाद : पढ़ाई के जुनून के चलते उच्च शिक्षा हासिल की। उसकी प्रतिभा को देखकर अमेरिकी कंपनी में लाखों रुपये की नौकरी मिली अमेरिका में खुशी-खुशी दिन बिताने लगा। मगर जैसे-जैसे दिन बीतते गये, वैसे-वैसे उसके अंदर कुछ असंतोष-सा लगने लगा। इसके चलते उसने लाखों की नौकरी छोड़ दी और भारत लौट आया।

उसने अमेरिका में कमाये हुए पैसे और परिवार तथा दोस्तों से कुछ पैसे लिये और डेयरी व्यवसाय शुरू किया। 20 गायों से शुरू किया कारोबार अब करोड़ों रुपये की आय हो रही है। वह कोई और नहीं बल्कि किशोर इंदुकुरी हैं। कर्नाटक में जन्मे किशोर ने तेलंगाना में रंगारेड्डी जिले के शाबाद मंडल में डेयरी कंपनी को स्थापित किया। केवल किशोर इंदुकुरी करोड़पति ही नहीं बना, बल्कि 120 लोगों को रोजगार भी दे रहा है। आइए जानते है किशोर की सफलता के बारे में…

जिंदगी बोर होने लगी

कर्नाटक के किशोर इंदुकुरी ने आईआईटी खड़गपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद वह मास्टर डिग्री और पीएचडी करने के इरादे से अमेरिका स्थित मैसाचुसेट्स विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने गया। पढ़ाई पुरी होने के बाद अमरिका में आईटी की बढ़ी कंपनी इंटेल में उसे नौकरी मिली। लाखों रुपए सैलरी, लग्जरी लाइफ, सप्ताह में पांच दिन काम, बाकी मौजमस्ती के लिए दो दिन की छुट्टी। उसने सोचा इससे बढ़कर जिंदगी में जीने के लिए और चाहिए। लेकिन छह साल में किशोर को वह जिंदगी बोर होने लगी। उसे महसूस होने लगा कि वह कुछ खो रहा है। लाखों रुपये की नौकरी छोड़कर घर लौट आया।

उसने परिवार और दोस्तों को बताया कि वह डेयरी उद्योग लगाना चाहता है। पहले तो सभी शॉक हो गये। मगर बाद में उसके फैसले का समर्थन किया था। हालांकि कुछ लोगों ने उसे सलाह दी कि कर्नाटक की तुलना में हैदराबाद के आसपास डेयरी उद्योग स्थापित करना बेहतर होगा।

20 गायों की खरीदीं की

साल 2012 में उसने 20 गायों की खरीदीं की और डेयरी शुरू किया। उसने बिना इंसानों की जरूरत के गाय के दूध दिये जाने वाले तकनीक का इस्तेमाल किया। ग्राहकों तक दूध पहुंचाने के लिए एक प्रणाली स्थापित की। बचे हुए दूध को स्टोर करने के लिए भारी फ्रीजिंग तकनीक की जरूरत थी। परिवार वालों ने इसके लिए उसकी आर्थिक मदद की।

सिद्स फार्म’ डेयरी शुरू

साल 2012 में रंगारेड्डी जिले के शाबाद में उसने अपने बेटे के नाम पर ‘सिद्स फार्म’ डेयरी शुरू किया। डेयरी ने बहुत ही कम समय में गुणवत्तापूर्ण दूध की आपूर्ति करके अच्छी प्रतिष्ठा प्राप्त की है। साल 2018 तक यह डेयरी हैदराबाद और उसके आसपास के 6,000 परिवारों को दूध की आपूर्ति करने लगा। इस समय डेयरी फार्म की वजह से 120 लोगों को रोजगार मिला है। इस समय सिद्स फार्म 10,000 परिवारों को दूध की आपूर्ति कर रहा है और 40 करोड़ रुपये का वार्षिक कारोबार है।

ग्राहकों को दूध पहुंचाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी

किशोर इंदुकुरी ने बताया कि यह सफलता उतनी आसानी से नहीं मिली है। फार्म के शुरुआती दिनों में पूरे परिवार को कड़ी मेहनत करनी पड़ी। ग्राहकों को दूध पहुंचाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। छह साल अमेरिका में कमाये पैसे, परिवार के सदस्यों और दोस्तों के पैसे को निवेश किया गया।

गुणवत्ता की नींव पर ही व्यवसाय

किशोर ने आगे बताया कि डेयरी को और विस्तार करने के लिए 2018 में बैंक से 1.3 करोड़ रुपये का कर्ज लिया। पहले भैंस और गाय का बेचा जाता था। अब गाय का मक्खन, मलाई निकाला हुआ दूध, गाय का घी, भैंस का घी, मक्खन, गाय का दही, भैंस का दही और जैविक पनीर जैसे उत्पाद उपलब्ध है। ये सभी उत्पाद उच्च गुणवत्ता वाले हैं। किशोर इंदुकुरी का कहना है कि गुणवत्ता की नींव पर ही व्यवसाय चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'तेलंगाना समाचार' में आपके विज्ञापन के लिए संपर्क करें

X