मीडिया से पहली बार रू-ब-रू हुई वाईएस शर्मिला, बोली- “तेलंगाना में तहलका मचाऊंगी लिखकर रख लो”

हैदराबाद: वाईएसआर तेलंगाना पार्टी (वाईएसआरटीपी) की अध्यक्ष वाईएस शर्मिला ने कहा कि तेलंगाना में अराजकता शासन चल रहा है और सीएम केसीआर की एक सामंती की तरह शासन कर रहे हैं। राज्य में नौकरियों की अधिसूचनाएं जारी नहीं होने के कारण बेरोजगार युवक मर जा रहे हैं। मगर सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। शर्मिला ने शुक्रवार को लोटस पॉन्ड स्थित पार्टी कार्यालय में मीडिया को संबोधित किया। इस दौरान विभिन्न मीडिया के प्रतिनिधियों के पूछे गये सवालों का जवाब दिया।

… तो हम चुनाव लड़ेंगे

शर्मिला ने हुजूराबाद उपचुनाव पर भी टिप्पणी करते हुए कहा, “क्या हुजूराबाद चुनाव से किसी को लाभ होगा? क्या बेरोजगारों को नौकरी मिल जाएगी? क्या दलितों को तीन एकड़ जमीन मिल जाएगी? अगर यह सब कुछ होता है तो हम चुनाव लड़ेंगे।”

केसीआर में का सामंती बाहर आ रहा है

वाईएसआरटीपी की अध्यक्ष ने कहा, “एक आंदोलनारी के रूप में केसीआर की इज्जत करती थी। सोचा कि बेहतर करेगा। लेकिन अब उनमें छिपा एक सामंती बाहर आ रहा है। जब वाईएसआर मुख्यमंत्री थे तब आम आदमी को भी मुश्किलें कहने और बताने की इजाजत थी। मंत्री और जन प्रतिनिधियों को तो उनके पास सीधे सीएम कार्यालय में प्रवेश करने का मौका था। मगर अब मंत्री और विधायक सीएम केसीआर से मिलने के लिए गेट के बाहर एक भिखारी की तरह खड़े रहना पड़ रहा हैं।”

चेवेल्ला से पदयात्रा

हमारे भूख हड़ताल करने पर ही 50 हजार नौकरियों की भर्ती करने की बात कह रहे हैं। कुल दो लाख नौकरियां भर्ती करने का है। केवल 50 हजार पदों की भर्ती करने का कोई मतलब है? सीएम केसीआर ने 52 हजार कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को निकाल दिया है। उनके समर्थन में हम संघर्ष करेंगे। वाईएसआर की तरह मैं भी चेवेल्ला निर्वाचन क्षेत्र से पदयात्रा करूंगी।

पेट्रोल साथ लेकर आने वाले हरीश राव को माचिस का पता नहीं

अगर सरकार समस्याओं का समाधान करती है तो हम क्यो पदयात्रा करते है? पेट्रोल साथ लेकर आने वाले हरीश राव को माचिस लेकर आने का पता नहीं है? अगर आप उकसाते है तो युवा आत्महत्या करते हैं। मैं तेलंगाना की परंपरा और रीति-रिवाज के बारे में मैं अच्छी तरह से जानती हूँ। मैं यहीं पर पढ़ी-लिखी हूं। यही पर बड़ी हुई हूं। मैं यहीं पर बच्चों को जन्म दिया है। मैं तेलंगाना के बारे में सब कुछ जानता हूं।

वाईएस जगन और मैं दो अलग-अलग राज्यों के प्रतिनिधि

वाईएस जगन और मैं दो अलग-अलग राज्यों के प्रतिनिधि हैं। हम धर्मों और जातियों से परे हैं। मुझे धर्म या जाति से मत जोड़ो। मैं केवल तेलंगाना के लोगों का तीर (बाण) हूं। किसी का किसी का छोड़ा हुआ तीर नहीं हूं।

अल्पसंख्यकों के लिए वाईएसआर से ज्यादा करूंगी

केसीआर ने अल्पसंख्यकों को 12 फीसदी आरक्षण देने का आश्वासन दिया था, मगर 5 फीसदी भी नहीं दे सके। दिवंगत मुख्यमंत्री वाईएसआर ने अल्पसंख्यकों की भलाई के लिए बहुत कुछ किया है। मैं अल्पसंख्यकों के लिए वाईएसआर से ज्यादा करके दिखाऊंगी।

केसीआर ने कृष्णा जल मुद्दे को गंभीरता से नहीं लिया

उन्होंने सवाल किया कि क्या केसीआर ने कभी कृष्णा जल मुद्दे को गंभीरता से लिया है? शर्मिला ने यह भी स्पष्ट किया कि तेलंगाना को मिलने वाले पानी की एक बूंद भी छोड़ेगी और नहीं किसी का एक बूंद लेंगे।

केसीआर महिलाओं की इज्जत नहीं करते

केसीआर महिलाओं की इज्जत नहीं करते हैं। महिलाओं को केवल व्रत करने का सुझाव देते हैं। केसीआर महिलाओं का सम्मान भी नहीं करते हैं। अब उनका बेटा केटीआर कैसे महिलाओं का सम्मान करेगा?

तेलंगाना में तहलका मचाऊंगी

मैं तेलंगाना में तहलका (तेलुगु-प्रभंजनम) मचा के दिखाऊंगी। यह बात लिखकर रख लो। इतना ही नहीं, वाईएसआर कभी भी तेलंगाना के खिलाफ नहीं थे। आंध्र प्रदेश में दो साल से जगन सरकार की सत्ता में है। देखने पर लगता है कि सीएम जगन वहां पर राजन्ना राज्य के लिए संघर्ष कर रहे हैं। ऐसा नहीं होने पर जनता ही जगन की सरकार को नकार देंगे। शर्मिला ने दोहराया कि जगन और केसीआर दोनों अच्छे दोस्त हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'तेलंगाना समाचार' में आपके विज्ञापन के लिए संपर्क करें

X